Tuesday, 1 November 2011

छंद ......छंद............,,

गीत सी संगीत जैसी , प्रीत मनमीत जैसी ,
कवियों के गीत जैसी , स्वप्न से भी प्यारी हो ,
मोरनी सी मोर जैसी , चकवा चकोर जैसी ,
झरने की धार जैसी , गगन की परी हो ,
                  तबले की ताल जैसी , हिरनी की चाल जैसी ,
                  घूँघट सम्हाले, मधुवन की ही नारी हो ........

दलदल की कमल जैसी , वस्त्र मखमल जैसी ,
गुल-गुलशन सी, चमन से भी प्यारी हो ,
कोयल की बोली जैसी , फागुन की होली जैसी ,
अनल की शिखा जैसी , रवि की ही लाली हो 
                  भाल पे सिंदूर जैसी जन्नत ही हूर जैसी , 
                  कांच की महल जैसी,अमृत की प्याली हो ........

नयन की नूर जैसी ,घटा घनघोर जैसी ,
कनक,नुपुर जैसी , मोतियों की आली हो ,
संगमरमर जैसी , गजरे सी हार जैसी,
झंकृत तार जैसी, बसंत बयारी हो ,
                  सागर की लहर सी , सावन फुहार जैसी ,
                  हरित तृणों में जैसी , ओश बूंद पड़ी हो ,.........

कदम्ब गुलाब जैसी , सरस शबाब जैसी ,
कलरव गान जैसी , सुमन की क्यारी हो ,
अबीर गुलाल जैसी , ईद की चाँद जैसी ,
जन्म भूमि कर्म भूमि , जान से भी प्यारी हो,

                गीत सी संगीत जैसी , प्रीत मनमीत जैसी ,
                कवियों के गीत जैसी , स्वप्न से भी प्यारी हो ,    
                                                  
                                                                                                                       sukumar .......